Nationalism In India | bharat me rashtravad

Please Rate this post

यूरोप में आधुनिक राष्ट्रवाद के साथ ही राष्ट्र राज्यों का उदय हुआ | इससे अपने बारे में लोगों की समझ भी बदलने लगी | भारत भी एक उपनिवेश था | जिससे उपनिवेशवाद विरोधी आंदोलन के साथ उनकी गहरे नाते जुड़ने लगे | इसके खिलाफ संघर्ष के दौरान लोग आपसी एकता को पहचानने लगे थे | (NCERT Solutions : bharat me rashtravad)

समूह पर उपनिवेशवाद का असर एक जैसा नहीं था | उनके अनुभव भी अलग थे | इस अध्याय में हम इसके बारें में अध्ययन करेंगे | यहाँ संघर्ष की नई पद्धति सामने आने लगी | प्रथम विश्वयुद्ध ने एक नई आर्थिक और राजनीतिक स्थिति उत्पन्न की थी |

रक्षा खर्च में भारी इजाफा हुआ | खर्चे की भरपाई करने के लिए कर्ज लिए गए | करों में वृद्धि की गई | सीमा शुल्क बढ़ा दिया गया | आयकर शुरू कर दिया गया | 1913 से 1918 के बीच में आम लोगों की मुश्किलें बढ़ गई | सिपाही भर्ती किया गए | ग्रामीण इलाकों में गुस्सा व्याप्त हुआ |

सत्याग्रह का विचार :

सत्याग्रह का विचार महात्मा गांधी ने दिया था | वे जनवरी 1915 में भारत लौटे थे | इससे पहले दक्षिण अफ्रीका में थे | वहां सरकार के खिलाफ उन्होंने लोहा लिया था | लोहा लेने के लिए उन्होंने अहिंसा का रास्ता अपनाया | उन्होंने इसको सत्याग्रह नाम दिया | (bharat me rashtravad)

1917 में उन्होंने बिहार के चंपारण का दौरा किया | दमनकारी बागान व्यवस्था के खिलाफ किसानों को संघर्ष के लिए प्रेरित किया | 1917 में गुजरात के खेड़ा में किसानों की मदद की | इसके लिए सत्याग्रह किया | 1918 में अहमदाबाद में सूती कपड़ा कारखानों में मजदूरों के बीच में आंदोलन किया | यहाँ भी अहिंसा का साथ नहीं छोड़ा |

सत्याग्रह का अर्थ आत्मबल है | सत्य ही आत्मा का आधार होती है | इसलिए अहिंसा सर्वोच्च धर्म है |

रोलेट एक्ट :-

इस एक्ट में कोई भी भारतीय नहीं था | यह 1919 में पास हुआ | इसे इंपीरियल लेजिस्लेटिव काउंसिल ने पास किया | इसके खिलाफ 6 अप्रैल को हड़ताल से नागरिक अवज्ञा शुरू होनी थी |

13 अप्रैल को जलियांवाला बाग में शांतिपूर्ण सभा पर जनरल डायर ने गोलियां चलवा दी | सैकड़ों की संख्या में लोग मारे गए | परिणाम स्वरूप विरोध बढ़ने लगा | गांधी जी ने सत्याग्रह वापस ले लिया |

DescriptionDownload
Link
Book Full Chapter In HindiClick Here
Book Full Chapter In EnglishClick Here
Full Chapter Solutions In HindiClick Here
Full Chapter Solutions In EnglishClick Here
Chapter Quiz In HindiClick Here
Chapter Quiz In EnglishClick Here



An aspiring Teacher formed an obsession with book solutions, videos, Notes, Quizes and Helping Beginners To Build the Amazing World.

Leave a Comment